Search This Blog

Sunday, August 21, 2011

ज़ालिम सत्ता, जनता के फौलाद भरा सीनों में 
तानकर खड़े देखने कितना लावा है संगीनों में

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment