Search This Blog

Tuesday, April 24, 2012

प्रकाश प्रलयजी

कुत्ते के कारण गुम होता आदमी का वजूद और व्यवस्था का प्रयोगवाद दोनों ही क्षणिकाएं लाजवाब हैं। बधाई हो।
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment