There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, April 20, 2012

यों तो मिलीं हजारों नज़रें

आदरणीय गौड़ साहब.
बहुत ही सुंदर गीत आपने पढ़वा जिया। मन गीत-गीत गो गया। क्या लिखते हैं आप। आपकी लेखनी को प्रणाम। शत-शत प्रणाम..खासकर इन पंक्तियों का तो जवाब ही नहीं..
यों तो मिलीं हजारों नज़रें
पर न कहीं वह नज़र मिली
चाहा द्वार तुम्हारे पहुंचूं
पर न कहीं न वह डगर मिली
तुम कहते याद न हम आये
हम कहते कब बिसरा पाए
सारी उमर लिखे ख़त इतने
स्याही कलम तमाम हुई ।

पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment