There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, May 21, 2012

राजभाषा सम्मेलन के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन


पुरी। यहाँ 15 से 18 मई,2012 को 22वें हिन्दी सम्मेलन एवं कार्यशाला का भव्य व प्रेरक आयोजन राजभाषा एवं प्रबंधन विकास संस्था, दिल्ली द्वारा तोशाली रिसोर्ट में किया गया। सम्मेलन व कार्यशाला में देश के विभिन्न सरकारी कार्यालयों आदि के 60 से भी अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया। सम्मेलन व कार्यशाला का शुभारम्भ दिनांक 15 मई को अपराह्न दीप प्रज्जवलन व दूर-दूर से आये प्रतिनिधियों के स्वागत व परिचय के साथ हुआ। तीन दिनों तक चले कार्यक्रम के विभिन्न सत्रों में देश के जाने-माने विद्वानों ने देश भर से पधारे सरकारी अधिकारियों को संबोधित किया। इसमें सर्वश्री केवल कृष्ण ने सूचना प्रौद्योगिकी, प्रेम सिंह ने हिन्दी नीति, सुभाष चंदर ने टिप्पण-आलेखन पर अपना सारगर्भित व्याख्यान प्रस्तुत किया। इनके अलावा फिल्म्स डिवीजन के संयुक्त निदेशक श्री राजेन्द्र रावत ने फिल्मस डिवीजन के उल्लेखनीय कार्यों का विवरण प्रस्तुत किया। विभिन्न सत्रों की अध्यक्षता क्रमशः श्री राजीव दुबे (उप प्रबंधक- ओएनजीसी) व डॉ सेनानी आदि ने की। उपरोक्त सत्रों का संचालन संस्था के पदाधिकारी श्री बी. एल. शर्मा ने अत्यन्त प्रभावी ढंग से किया।

सम्मेलन के अंतिम सत्र में साहित्यक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया, जिसमें प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, भोपाल के वैज्ञानिक श्री सुनील कुमार मीणा, नेशनल बुक ट्रस्ट की संपादक श्रीमती उमा बंसल, फिल्मस् डिवीजन, मंुबई के श्री राजेन्द्र रावत व दिल्ली के श्री किशोर श्रीवास्तव आदि ने अपनी सुमधुर रचनायें प्रस्तुत कीं। इस सत्र का संचालन प्रसिद्ध व्यंग्यकार श्री सुभाष चंदर ने किया।

सम्मेलन के दौरान श्री किशोर श्रीवास्तव की राष्ट्रभाषा हिन्दी के प्रचारार्थ तैयार की गई कार्टून व लघु रचनाओं की पोस्टर प्रदर्शनी ‘खरी-खरी’ का आयोजन भी किया गया। साथ ही संस्था द्वारा सभी प्रतिभागियों के लिये कोणार्क और जगन्नाथ पुरी धाम का शैक्षिक भ्रमण भी कराया गया जो कि काफी प्रेरक व ज्ञानवर्द्धक रहा।

अंत में संस्था प्रमुख श्री निशांत शर्मा ने सभी का आभार प्रकट किया।








- हम सब साथ साथ डेस्क, नई दिल्ली
Post a Comment