Search This Blog

Wednesday, May 2, 2012

शोकसंदेश

अभी-अभी मुझे मेरे मित्र सुकवि अऱुण सागर ने सूचना दी है कि उनकी पूज्य माताजी का स्वर्गवास हो गया है। वे कई दिनों से बीमार चल रही थीं। इस शोक की घड़ी में हम सभी मित्र उनके साथ हैं और ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।
Post a Comment