Search This Blog

Thursday, May 10, 2012

क्या हुआ जो आज तुम सजनें सँवरने आई ना

राह तकता ही रहा बेचैन होकर आईना

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment