There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, May 28, 2012

कृतज्ञ राष्ट्र का नमन

वीर सावरकर
1857 की क्रांति को गदर और सिपाही विद्रोह कहनेवाले अंग्रेजों की हुकूमत में ही इसे भारत का प्रथम स्वाधीनता संग्राम कहनेवाले और तमाम अनाम और अचीन्हेक्रांतिकारियों का जीवन परिचय खोजनेवाले और इनका इतिहास लिखनेवाले चंपक रमन मिल्लै,मदनलाल धींगड़ा के थिंक टैंक और मैडम भीकाजीकामा के प्यारे शिष्य एक ही जीवन में दो मृत्युदंड की सजा भोगनेवाले वीर सावरकर का आज जन्म दिन है। हम कृतज्ञ भारतवासी उन्हें नमन करते हैं।
Post a Comment