There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, May 11, 2012

 हम करें कैसे बयाँ , कितना तुम्हें हैं  चाहते

खुद ही कर देंगी बयाँ , जो हैं हमारी चाहतें

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment