Search This Blog

Saturday, June 28, 2014

देख लो ,हम कितने रिश्ते  निभाते हैं 
हम चले तो आप, आप चले तो हम
रोक  नहीं पाते हैं। 
घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment