There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, July 8, 2014

बड़ी तो लगनी ही थी भ्रम की चादर ,
देखा नहीं था ना....   पाँव फैलाकर। 
घनश्याम  वशिष्ठ 

Post a Comment