There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, November 26, 2010

मुक्तक

कोरे कागज़
पे दस्तखत किये ।
कितने खुलकर
यहा पर जिए ....
वक्त के हाथ मे
बिक गये ,
जिस तरह चाहिए
हो लिए .......
................................
प्रकाश प्रलय .कटनी
...........................................
Post a Comment