There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, November 14, 2010

आदरणीय सुरेश नीरव जी
आप सदैव ही सटीक बात कहते हैं
मुझे अपनी एक कविता इस पर याद आ रही है
कविता का शीर्षक है -
आजादी की छानस
आजादी तो पा ली थी कई बरसों पहले
क्यूँ करते पुराणी बात हैं?
क्या खोया था इसे पाने में
किसको अब याद है
क्यूँ पुरानी बातें सोचें
उनको याद करना बेकार है
आजादी को जी भर जियें
हर दिल की यही फरियाद है

इक नया सूरज उगता है हर घर में
और नया इक चाँद है
अपने आजादी के सूरज से उसका घर फूंके
क्या इसलिए की हम आजाद हैं ?

भूल गए हैं अपनी संस्कृति
भूले हर इक रिवाज़ हैं
किसने खेतों में बीज उगाया
किसके गल्ले में अनाज है?

हिंदू मुस्लिम को लड़वाती है जो
बेहिचक कहाँ से आती वो आवाज है
आओ हिन्दुस्ता को अंग्रेजिस्तान बनाएँ
अब हम अंग्रेज़ी के गुलाम हैं।

छलनी में डाल ली थी शायद आजादी
जिसे छानते हम आज हैं
छन छन कर रह गयी आज़ादी की छानस
फिर भी खुशी मनाते हैं की हम आज़ाद हैं.
Post a Comment