Search This Blog

Saturday, December 4, 2010

बधाई मेरी भी



मैं कभी....
श्री ज्ञानेन्द्र चतुर्वेदीजी से मिली नहीं हूं मगर जयलोकमंगल के एक सदस्य होने के नाते मैं भी इस मुबारक मोके पर अपनी शुभकामनाएं देने का हक तो रखती ही हूं। बधाई स्वीकारें।
डाक्टर प्रेमलता नीलम
Post a Comment