There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, February 4, 2011



अपने आप

अपने ही दिल को तसल्ली देने को
अपनी ही आँखों से आँसूं छलका कर रो दिए

कोई कान्धा न मिला सिर रखने को
अपने ही तकिये पर सिर टिका कर रो दिए

न सहलाया उस पर भी जब किसी ने ग़मगीन माथा
अपनी ही उंगली बालों में फिरा कर सो गए ....


मंजु ऋषि (मन)

Post a Comment