There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, March 21, 2011

शब्दों के पार मौन














जो शब्दों के पार   मौन की पश्यंती में बतियाती है उसको आप्तवाणी  में प्रशांत कहते हैं. आदरणीय महर्षि श्री नीरवजी ने पारिभाषित किया है. ये बात उन्होंने प्रशांत योगी होने के अर्थ में संग्यानित की है  ऐसा ज्ञान देने के लिए मैं  उन्हें बधाई देता हूँ. मेरे पालागन
भगवान सिंह हंस  
Post a Comment