Search This Blog

Sunday, March 20, 2011

नाम

आदरणीय परम पूज्य ब्रह्म ऋषि श्री नीरव जी,

फिर से आया त्यौहार रंगों का, गीत रंगों का-मनमीत रंगों का,
नाम कर दें ऊँचा हम सब, गुरु-मात-पिता के अमर प्रेम का..

मित्रो, आप सभी को होली की  हार्दिक शुभ कामनाएँ..आप सभी को मेरा कर-बद्ध प्रणाम...
प्रोफेसर अमित विकास हंस   
Post a Comment