There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, April 14, 2011

एक रोटी का टुकड़ा

" रोटी का टुकडा"
---------------
वो-भिड गये
वहां था ,एक रोटी का टुकडा।
नही की बहते लहू की चिन्ता
...
अपितु- बढाली प्यास
रक्त पिपासु बनने की
क्योंकि ?-
था वहां रोती का एक टुकडा।
नदिया समन्दर दर समन्दर हो गयी
थाह पाने की
मिटाके हस्ति अपनी
और- एक और-
हस्ति बनाने की
पर मिटा ना पायी
बीच मे बान्ध सा-
बन बैठा था
एक रोटी का टुकड़ा।

++++++++++++++गोविन्द हांकला
Post a Comment