There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, April 21, 2011

कविता " नागरिक "

जब वह
गाँव से चला था
तो अच्छा भला आदमी था
सूना है कि अब वह
शहर में आकर
नागरिक बन गया है
Post a Comment