There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, May 5, 2011

बधाई ही बधाई

 आदरणीय डा०  विपिन चतुर्वेदीजी प्रणाम.  आपकी कविता बहुत अच्छी लगी. आपको बहुत-बहुत बधाई. निम्न पंक्तियाँ लाजवाब लगी-

गीत बन तेरे अधर पर छा गया मैं.
तुम बुलाना चाहते थे आ गया मैं







                                                                                                                                                        



श्रे राजमणिजी प्रणाम. आपकी  विरचित गुब्बारे की कविता बेहतरीन है. आपको ढ़ेर सारी बधाई. निम्न पक्तियां बहुत पसंद आयीं -


थोडा ऊपर उठ जाएँ तो
औकात भूल जाते हैं.        






 
जय लोकमंगल

Post a Comment