There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, May 10, 2011

आरजू-ऐ- बहार

हमसे न  पूछिए  कि तुम्हें  याद नहीं करते हैं.
नीरवजी  से पूछिए हम  भी पालागन करते हैं.

मुलाकात होती है तो धूप में शाम होती है.  
फुहारे भी झूम  दिल-ऐ- सिरहन  करते हैं.

पालागन, आदरणीय श्री  पाण्डेयजी.


श्री  पंडितजी! आपको बहुत-बधाई इतनी दर्दे-ऐ -दिल गजल  के लिए. निम्न  दर्द भरे sher बहुत पसंद आये-

गुनगुनाती साँस की रेशमी काँच में .
धूप सुबह की होकर उतरता हूँ मैं .

कह्कहें की उमड़ती हुई भीड़ में
हो के नीरव हमेशा निखरता हूँ मैं

दिल से जब भी तुझे याद करता हूँ मैं  
--------------------------------------.
जब  कसकती  टीस  से  संवरता  हूँ मैं.
तो गहरे आनंद  सागर में भंवरता हूँ मैं
       
                                                        -हंस

पालागन, आदरणीय श्री मकबूलजी
आरजू-ऐ- बहार है हमको.
आपका इन्तजार है हमको.
बहुत-बहुत बधाई इतनी उम्दा गजल के लिए.
जब बूँद समंदर में  गिरती है.
खुद को मेट समंदर बनती है. 
                         -हंस



                                                                      जय लोक मंगल  
                                                                                                                                                                                     
                                                                                                  

Post a Comment