There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, June 10, 2011

भिंड के बारे मैं

भिंड के कवि सम्मलेन के बारे मैं बहुत कुछ लिखा था । कोम्पुतोर्जी को शायद पसंद नहीं आया और वह छापा ही नहीं । भिंड की तहसीलें हैं, गोहद और लहार। गोहद मेर्री जन्मभूमि है। २६जुन १९३१, तदनुसार आषाढ़ कृष्णा सप्तमी को मेरा *इस जग मैं प्रादुर्भाव हुआ था। *
लहार तहसील मैं अटेर का प्रसिद्ध किला है। वहीँ पर चौबों का प्रसिद्ध गाँव तरसोखर है।
इस बारे में अन्य चर्चा फिर ।
श्री अरविन्द , आपका समाचार फ़ोन पर आज मिलामोबाइल का सिस्टम आज काम नहीं कर रहावैसे आपको प्रसन्नता होगी, में आज बिस्मिल की ग़ज़ल गुनगुना रहा था, नहीं शायर में उन ऐताश बद्खूं बादशाहों कानहीं शायर में ------क़ज कुलाहों का .. में शायर उनका हूँ जिन्हें ज़माने ने सताया हैबहुत खुश हो हो के दिल जिनका ज़माने ने दुखाया है
और तब भी बिस्मिल याद थे जब ऋषिकेश -देहरादून की मसरुफियात आज शवाब पर थीआई एम् की परेड, प्रतिभादेवी की उपस्थिति, बाबा रामदेओ का अनशन ,वह भी हमारे अस्पताल में , ऋषिकेश के एक मशहूरो मारूफ आदमी को हाथियों ने शहर के पास मार डाला
ऐसे ही कभी कभी याद कर लिया करें
विपिन चतुर्वेदी
Post a Comment