There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, June 2, 2011

एक और नए सदस्य

श्री घनश्याम वसिष्ठजी आपका जय लोकमंगलका सदस्य ही नहीं बल्कि जय लोकमंगल  परिवार में सक्रियरूप से शामिल होने के लिएऔर नीरव जाह्नवी में गोता लगाकर आचमन करके अभिषेक करने लिए  लोकमंगल के हम सभी  सदस्य आपका  हार्दिक स्वागत करते हैं और अभिनन्दन करते हैं. आपकी बेहतरीन कवितायें हैं, पढ़ता रहता हूँ, बहुत आनंद आता है, ऐसे ही लिखते रहिये. 

 भगवान सिंह हंस     
 ९०१३४५६९४९                                                                                    
Post a Comment