There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, June 10, 2011

याद कर लेना कभी हमको भी भूले -

आज ग्यारह जून को बिसमिलजी की एक नज़्म के कुछ अंश दे रहा हूं‍‍;;
हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रहकर
हमको भी मां बाप ने पाला था दुख सह सहकर
वक्त-ऐ-रुखसत उन्हे इतना भी ना आए कहकर
गोद में अश्क जो टपकें कभी रूख से बहकर
तिफ्ल उनको ही समझ लेना जी बहलाने को।

नौजवानों जो तबीयत में तुम्हारी खटके
याद कर लेना कभी हमको भी भूले -भटके
आपके अज़्बे-बदन होवें ज़ुदा कट-कट के
और सद चाक हो जाता हो कलेजा फट के
पर न माथे पे शिकन आये कसम खाने को
अपनी किस्मत में अजल से ये सितम रक्खा था
किसको परवाह थी और किसमे ये दम रक्खा था
हमने जब वादिए -गुर्बत मे कदम रक्खा था
दूर तक यादे वतन आई थी समझाने को
अपना कुछ गम नही लेकिन यह खयाल आता है
मादर-हिंद पे कब तक ये जवाल आता है
हरदयाल आता है योरोप से न लाल आता है
कौम पे अपनी तो रह रह के मलाल आता है
मंतज़र रहते हैं हम खाक मे मिल जाने को

नौज़वानों यही मौका है उठो खुल खेलो
खिदमते कौम मेम आए जो बला तम झेलो
देश के सदके में सब अपनी जवानी दे दो
फिर मिलेंगी न ये माता की दुआएं ले लो
देखें ,कौन आता है यह फर्ज बजा लाने को।
अंत मे आप सभी को अमर शहीद पं० रामप्रसाद बिस्मिल के ११२ वें जन्मदिन कि बधाईं।
Post a Comment