Search This Blog

Monday, June 20, 2011


My Photo
कहाँ दरकार रह गई ..........  
 
                                
दीपक जलाओ, आपनें मुझसे ये क्या कही 
खुद का वजूद आप तो, खुद ही भुला रहीं 
जब चाँद उतर कर मेरी चौखट पे आ गया 
दीया जलाने की कहाँ दरकार रह गई 



घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment