Search This Blog

Wednesday, July 6, 2011

आप जैसी पवित्र आत्माएं

श्रीयुत भगवान सिंह हंसजी
पालागन..।
आप की सालगिरह की सार्थकता के लिए मैंने आज विशेष गायत्री मंत्र का पाठ किया है। ताकि आप जैसी पवित्र आत्माएं अपनी भगवत्ता से इस संसार को आलोकित करती रहें। आप की निश्छल चेतना से  मनुष्यता जीवंत होती है।
फेसबुक पर श्री घनश्याम वसिष्ठजी ने भी आपको शुभकामनाएं दी हैं। देखलें।
जीवेम शरदः शतम..

पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment