There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, July 12, 2011

कर गए ख्वाब हमसे शरारत बड़ी .....

कर गए ख्वाब हमसे शरारत बड़ी .....                   
My Photo                                                                     

एक  पर्दानशीं ,सामने  थीं  खड़ी
रुख से पर्दा हटाने लगीं जिस घडी
 क्या थी जल्दी न ठहरे घड़ीभर वहाँ
कर गए ख्वाब हमसे  शरारत बड़ी 



घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment