There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, July 5, 2011

जीवेम शरदः शतम

*r श्रीयुत भगवानसिंह हंस को उनकी जन्म तिथि के अवसर पर शतशः बधाइयां। भरत चरित के इस महानायक की लेखनी दिन-ब-दिन और प्रखर-मुखर हो मेरी यही प्रभु से कामनाएं हैं। जयलोकमंगल के सभी साथियों की और से शुभकामनाएं..
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment