There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, August 16, 2011


सत्ता के मद में डूबी सरकार वक़्त रहते संभल जाए तो अच्छा है ,
वरना जनता के हाथो डूबी तो उबर नहीं पाएगी 

अरबों हाथ 
अन्ना  के साथ 

घनश्याम वशिष्ठ 

Post a Comment