Search This Blog

Friday, August 19, 2011

नहीं कमज़ोर पावों को 
ज़मीं   स्थान   देती  है 
सदा मज़बूत पावों  को
ज़मीं खुद  थाम लेती है 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment