There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, August 23, 2011


लोकतंत्र में  जन  सैलाब को बलात रोकना ,राजनैतिक आत्म हत्या करना है .
भला कौन समझाए इन घमंड में बौराए राजनेताओं को ?
विनाश काले विपरीत बुद्धी .

घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment