There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, September 1, 2011


बद नसीबी  के जो  हमसे  तार  जुड़  गए 
नजदीक आ रहे थे  अचानक वो  मुड गए
ऐसे में भला  क्यूँ करें  उनसे ही हम गिला 
पतझड़ जो आया शाख से पंछी भी उड़ गए

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment