There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, September 8, 2011

कीचड़ में कमल ...................................................
मुझे लगता है.. कीचड़ की तरफ जा रहा है
लोग कहते है.. साहबजादा गुल खिला रहा है


घनश्याम वशिष्ठ 

Post a Comment