There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, October 8, 2011

आज शहीदों ने है तुमको अहले वतन ललकारा


                     हम हैं इसके मालिक,  हिंदुस्तान हमारा

                     वतन जान है,वतन प्रान है
                     ज़न्नत से भी प्यारा।

                      यही हमारी आन वान है
                        हमे जान से प्यारा

                      इसके रूहानी ज़ज़्बे से
                      रोशन है जग सारा,

                     हिंदुस्तान हमारा----------------------------

                         कितना अद्भुत,कितना सुंदर
                          सारे जग से न्यारा

                     इसको पावन करतीं हरदम
                      गंगो-जमन की धारा
                      उत्तर में बर्फीला पर्वत
                       पहरेदार हमारा

                    वतन जान है,वतन प्रान है
                     ज़न्नत से भी प्यारा।



                      नीचे साहिल पर बजता है
                       सागर का नक्कारा

                    इसकी खानें उगल रही हैं
                         सोना,हीरा,पारा 

                      इसकी शानो-शौकत का है
                          दुनिया में जयकारा

                     आया फिरंगी दूर से
                      इसने मंतर ऐसा मारा

                       लूटा दोनों हाथ से---
                         प्यारा वतन हमारा

                    वतन जान है,वतन प्रान है
                       ज़न्नत से भी प्यारा।

                        आज शहीदों ने है तुमको
                      अहले वतन ललकारा

                         तोडो गुलामी की      ज़ंज़ीरें
                           बरसाओ अंगारा

                        हिंदू- मुसलिम- सिख- इसाई 
                           हिंदुस्तानी प्यारा

                          आज़ादी का झंडा  झूमे
                            इसे सलाम हमारा।

                      वतन जान है,वतन प्रान है
                        ज़न्नत से भी प्यारा।


Post a Comment