Search This Blog

Monday, October 24, 2011


तुम क्या समझती हो ,तुम्हें जला रहा हूँ 
अरे नासमझ ,मैं तो मोम पिंघला रहा हूँ 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment