Search This Blog

Thursday, October 6, 2011

कल का कवि सम्मेल्लन

कल श्री उदय प्रताप जी ,श्री लक्ष्मी शंकर वाजपयी जी ,श्री नीरव जी के बीच अपने को पाकर प्रतीत हुआ की देश में विजयदशमी मनाई जा रही है । मंच पर और भी हस्ताक्षर महारथी विद्यमान थे । सब एक से बढ़कर एक थे .सबको मेरा प्रणाम ।

अभिषेक मानव
Post a Comment