There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, October 7, 2011


लोगों ने मुझे काँधों पर उठा लिया 
अफ़सोस! ये जीते जी न हुआ 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment