Search This Blog

Sunday, November 20, 2011

जब भी उस गुलबदन की याद आई

जब भी उस गुलबदन की याद आई
हो गई पुर-बहार तनहाई।

चौंक उठे हादसात दुनिया के
मेरे होठों पे जब हंसी आई।

जब किसी ने तुम्हारा नाम लिया
जाने क्यूं मुझको अपनी याद आई।

देख ऐ शेख़ मेरे सागर में
अपनी जन्नत की जलवा- फ़रमाई।
नरेश कुमार शाद
प्रस्तुति- मृगेन्द्र मक़बूल
Post a Comment