Search This Blog

Monday, November 28, 2011

हम जो ये दर्द पाले बैठे हैं 
किसी का नजराना संभाले बैठे हैं 


घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment