There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, January 24, 2012

सृजन पथ: ताउम्र उसको इस वज़ह से झिडकियां मिलती रहीं

सृजन पथ: ताउम्र उसको इस वज़ह से झिडकियां मिलती रहीं: पुरानी गज़ल के दो-तीन शेर आपकी अदालत मे पेश कर रहा हूं---- मां , बेटी , बहू बन...
Post a Comment