There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, January 12, 2012

बृहद भरत चरित्र महाकाव्य















भगवान सिंह हंस  रचित बृहद भरत चरित्र महाकाव्य के कुछ प्रसंग आपके आनंद के लिए --

पति का हुआ संकल्प पूरा | प्रभु को सौंपा राज्य सम्पूरा ||
तप   में बीते      चौदह वर्षा || स्वामी! निशि आयी ले हर्षा ||
अब पति का संकल्प पूरा हो गया | प्रभु को सम्पूर राज्य-पाट सौंप दिया| मेरे स्वामी के तप में चौदह वर्ष बीत गए| हे स्वामी! आज रात्रि हर्ष लेकर आयी है|
चाँदनी     श्वेत अंक पसारे | पुहुपित लता सुगंध प्रसारे ||
निशिपति मेटे निशि तम सारा| मैं करूँ इन्तजार तिहरा||
आज श्वेत चाँदनी ख़ुशी में अपने अंक पसार रही है| सर्वत्र लता- पुष्प सुगन्धित हो रहे हैं | निशिपति ने अपनी अपनी प्रिया निशि का सारा अन्धकार मिटा दिया है| हे स्वामी! मैं आपके आने का इन्तजार कर रही हूँ| 
यदि किसी का पति गया भोरे | लौटा नहीं निशा झकझोरे ||
नहीं   सोहि   घर  खाना पीना| जैसे जल बिन भटके मीना || 
हे स्वामी! यदि किसी का पति सवेरे गया हो और शाम तक नहीं लौटे तो रात्रि झकझोरने लगती है|  तब पत्नि को घर में खाना-पीना  आदि कुछ भी अच्छा नहीं लगता है| और वह पत्नि ऐसे तड़फती है जैसे जल बिना मछली| 
द्वार पर बिलोक बार बारा| नाथ ने कीन्ही बहु अबारा ||
वह तो एक दिन में अकुलायी| मैं ने चौदह वर्ष बितायी||
और वह द्वार पर जाकर बार-बार देखती है कि कहीं पतिदेव आ रहे हों | हे नाथ! आपने आने में बहुत देर कर दी| वह पत्नि तो एक दिन में अकुला गयी | मैंने तो चौदह वर्ष बितायी हैं| 
अर्द्ध रजनी बीती अब, स्वामि ने की अबार|
श्रृंगार युक्त मांडवी , पति को  रही निहार ||
अब आधी रात बीत गयी| स्वामि ने बहुत देर कर दी| श्रृंगारमयी मांडवी अपने पति के आने को निहार रही है| 

प्रस्तुति ---

योगेश विकास
Post a Comment