There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, January 6, 2012

भारत के विषय में महान विद्वान घोषणा करते हैं




विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक तथा गीता का विद्वान जुलियस आर. ओपैनहाइमर :
हमें आधुनिक भौतिकी‌ में‌ क्या मिलता है : प्राचीन हिन्दू ज्ञान का उदाहरण, प्रोत्साहन एवं परिष्करण।. . . . .
'वेदों की सुलभता' पिछली शताब्दियों की तुलना में इस शताब्दी का सर्वश्रेष्ठ अनुदान है।
(स्रोत : 'द डाओ आफ़ फ़िज़िक्स' – फ़्रित्याफ़ काप्रा)
गीता विश्व की किसी भी‌ भाषा में दर्शन का सुन्दरतम गान है।. . .
पाश्चात्य सभ्यता की भयानकतम वैज्ञानिक उपलब्धि के बरअक्स भारत के महानतम साहित्यिक चिरस्थायी ग्रन्थ भगवद्गीता द्वारा प्रदत्त सर्वाधिक जगमग करता आत्मज्ञान . . . .
क्रिस्चिअयन सैन्चुरी पत्रिका के पूछने पर कि किन दस पुस्तकों ने उऩ्हें सर्वाधिक प्रभावित किया है, उनमें दो पुस्तकें थी - 'गीता' और भर्तृहरि का 'शतकात्रयम'
(स्रोत : ' द् आइ आफ़ शिव' : ईस्टर्न मिस्टिसिज़म एन्ड साइन्स' - अमोरी द रैन्कुर)
१६ जुलाई १९४५ के न्यू मैक्स्को में ट्रिनिटी परीक्षण में‌ हुए प्रथम परमाणु बम के विस्फ़ोट को देखते हुए भावप्रवणता में उनके मुख से गीता के दो श्लोक अचानक फ़ूट पड़े : "यदि आकाश में एक सहस्र सूर्यों की कौँध एक साथ भभक उठे, ऐसी दीप्ति उस सर्वशक्तिमान की होगी. . . “ “अब मैं तो स्वयं काल हो गया हूं, विश्व का विनाशक")
इसी आशय का कोरस 'डाक्टर एटोमिक'ओपेरा ( जान एडम्स) के अंक '२' दृश्य '३' में गाया है, संगीत लेखन प्रसिद्ध 'पीटर सैलर्स ने किया है।
. . . . . . . . .
क्वाण्टम भौतिकी के लिये प्रसिद्ध नोबेल पुरस्कृत वैर्नैर हाइज़ैनबर्ग :
भारतीय दर्शन पर विमर्श के पश्चात क्वाण्टम भौतिकी की‌ कुछ अवधारणाएं जो पहले अजीबोगरीब लग रही थीं, अचानक बोधगम्य हो गईं।
(स्रोत : 'वैदिक इनिक्वैलिटीज़् एन्ड हिन्दुइज़म' – ओ. पी. गुप्ता )
भारतीय दर्शन पर विमर्श के पश्चात क्वाण्टम भौतिकी की‌ कुछ अवधारणाएं जो पहले अजीबोगरीब लग रही थीं, अचानक बोधगम्य हो गईं।
(स्रोत : 'वैदिक इनिक्वैलिटीज़ एन्ड हिन्दुइज़म' – ओ. पी. गुप्ता )
.. . . . . . . . . . . . . . . .
Post a Comment