Search This Blog

Monday, January 2, 2012

NAV VARSH NAV HARSH

रजनी कान्त शर्मा "राजू"
नववर्ष   नव हर्ष   नव  उत्कर्ष 
नव कल्प  नव विकल्प नव संकल्प 
नव वर्ष  में नव  निर्माण 
नव वर्ष  में  नव कल्याण 
नव कल्याण  जन कल्याण 
जन कल्याण  राष्ट्र कल्याण 
राष्ट्र कल्याण राष्ट्र निर्माण 
जिससे  बने भारत  महान ||
कण कण महके 
हर मन  चहके 
योवन की मादकता से 
हर तन दहके 
दमके  तरुनाई 
मन  ले अंगडाई 
उड़े  हिल्लोर   
नाचे  मन मौर 
प्रगति भरे  उड़ान
जिससे बने भारत महान ||
   रजनी कान्त शर्मा "राजू "
Post a Comment