There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, February 18, 2012

दिवाकर माडल स्कूल में गज़ेसिंह त्यागी जी ने श्री बी०एल० गौड ,पं० सुरेश नीरव के साथ मुझे यह सम्मान प्रदान किया




















मित्रों कभी कभी उम्र बताना भी फायदे का सौदा राहता है ,जब से हमने ४० का हो जाने का ऐलान किया है मित्रों ने मुख्य अतिथि या विशिष्ट बनाना शुरू कर दिया।कल दिवाकर माडल स्कूल में गज़ेसिंह त्यागी जी ने श्री बी०एल० गौड ,पं० सुरेश नीरव के साथ मुझे यह सम्मान प्रदान किया था।यों तो गत वर्ष वे यह सम्मान गत वर्ष भी दिया था पर पिछले वर्ष पं० सुरेश नीरव ,मैं अरविंद पथिक तथा अत्यंत सात्विक समाजसेवी धर्मपाल यादव इस आयोजन में शामिल थे ।इस वर्ष धर्मपाल जी के रिप्लेसमेंट के रूप में   कवि श्री बी०एल० गौड थे।
 भाई नागेश पांडे को जैसे ही पता लगा कि हम ४० के हो गये हैं तो उन्होनें अपने महाविद्यालय में आमंत्रित कर लिया।ग्वालियर के भाई अमित चितवन का भी ऐसा ही इरादा था वो तो दोनो ही मित्रों ने २५ फरवरी की तिथि तय कर रखी थी और भाई नागेश को स्वीकृति दे देने के कारण अमित जी से क्षमा मागनी पडी।
जिस तरह से मित्रों ने मेंरे चालीसवें का स्वागत किया है उससे लगता है कि भाई राजमणि जी भी इस बार मुझे मेच्योर मान ही लेगें आप सभी का ह्रदय की गहराइयों से आभार।
अरविंद पथिक
9910416496
Post a Comment