There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, March 18, 2012

आम बजट रेल बजट

अट्टहास करता है घाटा नए बजट के रंग में
ठुमके देने से क्या होगा यारो कटी पतंग में
ट्रेन छोड़ भागा त्रिवेदी ममताजी की जंग में
एक ट्रेन छुकछुक करती है खाली खड़ी सुरंग में
पेट्रोल अब मुंह चिढ़ाता हंसता डीजल व्यंग में
धक्कों से गाड़ी चलती है ले लैला को संग में
भिनिर-भिनिर कर मच्छर गाते गाना राग मलंग में
नीरवजी अब बदन खुजाते खटमल हुए पलंग में।
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment