There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, April 14, 2012

प्रिय पथिक जी 
नमन ही नमन ------
----------------------
भाई स्रजन`के आपरेशन के वक्त 
आप द्वारा किये गये रक्त दान ,के लिए 
मेरे पास शब्द नहीं है ---काव्यमयी 
भावनाओं को आपने साकार किया है --
मित्रता के नाम पर आपका कद बहुत 
ऊंचाई पर चला गया है ,मेरा प्रणाम 
स्वीकार करो ------
----------------------------------
प्रकाश प्रलय कटनी --
----------------------------------------१५-०४-2012

Post a Comment