There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, April 4, 2012

आभार ---
*****************
नीरव जी 
आपका स्नेह 
आपकी आत्मीयता 
मेरे उपर सदैव रही है ---
अनुज वत गंगा निरंतर बही है ---
वेसे भी आप से जुड़े सभी मित्रों के 
आप मददगार है ,यारों के यार है ---
इसमें क्या शक है ----
ये तो हम मित्रों का लक है ---*****************
************************************
शब्दिका 
**********
दोस्ती 
वही
गहरी है ---
जो 
निस्वार्थ 
भाव की नींव 
पर 
ठहरी है ----
***************************
प्रकाश प्रलय कटनी 
*****************************
**********************************************
Post a Comment