There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, April 6, 2012

हमसे पूछो दोस्ती का सिला,

सुदर्शन 'फाकिर' की ग़ज़ल
------------------------------
-
आदमी आदमी को क्या देगा,
जो भी देगा वही ख़ुदा देगा |

मेरा क़ातिल ही मेरा मुंसिब है,
क्या मेरे हक़ में फ़ैसला देगा |

ज़िन्दगी को क़रीब से देखो,
इसका चेहरा तुम्हें रुला देगा |

हमसे पूछो दोस्ती का सिला,
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा |

इश्क़ का ज़हर पी लिया "फ़ाकिर",
अब मसीहा भी क्या दवा देगा |
Post a Comment