There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, July 28, 2012

आदरणीय नीरव जी 
नमन 
*****************
एक सौ एक प्रतिशत 
आपकी भावनाएं अनुकूल हैं *
जितनी मेहनत तिवारी जी की है ,
उससे कहीं ज्यादा मेहनत रोहित को 

यह बताने के लिए करना पड़ी ,
कि पिताजी आप ही मेरे पिता हैं ;;;;;;;
**
**************प्रकाश प्रलय **************************************
Post a Comment