There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, August 17, 2012

छप्पन भोग 
*******************
एक *
**********
रुपया 
सिरफिरा 
फिर गिरा --- 
**************
दो 
************** 
आतंकी 
हमलों से 
आंसू 
शरमाते है ---
अब नहीं आते है ***-----
***********************
तीन 
**************
देश 
ठगा है 
काले धन के बदले 
कोयला 
हाथ लगा है ---- 
*****************************
चार 
********************
जिनसे 
घोटालों के जखीरे 
नहीं जा सके टाले----
वतन 
अब उन्हीं के हवाले 
***************************
*पांच 
*********************
आप 
रोयें 
तब तक -----
वो 
मुस्कराएँ 
जब तक -------------
--------------------------
प्रकाश प्रलय  ktni  ;;;;m,p,;;;;;*
;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;
*****************
Post a Comment