There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, August 4, 2012

भिखारी --
************

भिखारी ने कहा -
बाबूजी एक रुपया दीजिये ...
इस भीषण महगाई मे .
कुछ तो मदद कीजिये ...
बाबूजी ,हर्षाये ,फिर घबराये 
अन्ततोगत्वा 
भिखारी पर चिल्लाये 
उपर मत चढिये...
कृपया आगे बढिए 
यह सुन भिखारी क़ा मन डोला ----
चहकते हुए बोला ------
बाबूजी ,
आपक़ा मन रूपी घडा तो 
सचमुच रीता है ,
मुझे लगता है ,
आपका जीवन तो 
मुझसे भी ज्यादा गयाबीता है ---
हम दोनों की भावनाएं 
सन्नाटे मे मौन है ------
क्योकि मौंजू दौर मे 
यह पता लगा पाना 
बड़ा मुश्किल है कि,
इन दिनों 
आखिर 
भिखारी कौन है -----
********************************
प्रकाश प्रलय  कटनी  

Post a Comment